भोपाल : मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में नर्सिंग की छात्रा से प्रमाण पत्र बनाने की फीस के बदले में इज्जत का सौदा करने का मामला सामने आया है. प्रमाण पत्र के बदले फीस में इज्जत मांगने वाला कोई और नहीं बल्कि जिले का मुख्य चिकित्सा अधिकारी था. पुलिस ने इस मामले सीएमओ को गिरफ्तार कर लिया है.

गोविंदपुरा थाने से मिली जानकारी के अनुसार, एक छात्रा ने शिकायत दर्ज कराई थी कि उसने भारत हैवी इलेक्टिकल्स के कस्तूरबा नर्सिंग महाविद्यालय से बीएससी की थी. उत्तीर्ण होने पर वह प्रमाण पत्र लेने सीएमओ डॉ. एसके गुप्ता के पास पहुंची तो उन्होंने शुरुआत में प्रमाण पत्र देने में आनाकानी की. छात्रा के कई बार गुहार करने पर सीएमओ तैयार हो गए. लेकिन उसके लिए सीएमओ ने एक शर्त रख दी कि छात्रा को पहले उससे शारीरिक संबंध बनाने होंगे. इसके बाद सीएमओ ने छात्रा को कई बार अश्लील मैसेज भी भेजे. इस बारे में छात्रा ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई. छात्रा ने उन पर शारीरिक शोषण का दबाव बनाने, अश्लील मैसेज भेजने की शिकायत दर्ज कराई है.

छात्रा ने बताया कि तीन महीने की छुट्टी पर जाने के कारण सीएमओ ने उसे सर्टिफिकेट देने से इंकार कर दिया था. पुलिस ने छात्रा की शिकायत पर फौरान कार्रवाई करते हुए सीएमओ को गिरफ्तार कर लिया. उधर, सीएमओ ने खुद को निर्दोष बताते हुए कहा कि उन्हें किसी साजिश के तहत फंसाया जा रहा है, वे बिल्कुल निर्दोष हैं. पुलिस ने गुप्ता को गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया, जहां से उन्हें जमानत पर रिहा किया गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here